Monday, February 21, 2011

जिन्दगी !

जिन्दगी !

ज़िन्दगी छोटी ही सही लेकिन
खुशियों के साथ गम का सबब साथ लाती है |


मुस्कुराने की चाहत तो मेरी भी थी
पर उदासी इसे छीन जाती है |

अपने लिए तो सभी जीते हैं
औरों के लिए जीने की तमन्ना ही
जीने की एक आस दे जाती है |
Post a Comment

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails